Wednesday, 22 May 2013

मेरी कबिता रूठ गई ######


मेरी कबिता मुझसे रूठ गई ;
              कैसे उसको मनाऊँगा ...?
                      गीत नही न गजल हुई ;
                           अब कैसे उसको गाऊँगा ?
                                   
 कतरे -कतरे को प्यार किया ;
       उम्र गुजर गई इसके पीछे ...
               कभी हुई न दिल से मेरी ..
                     हरपल अपना दामन खींचे ।
                      नयन बिछाया रात -रात भर ;
                          अब कैसे सो पाउँगा ?

 ह्रदय सदा गुलाम रहा ;
        होंठों में ही सदा समाया ..
              .साँसो में उसे बसाकर ;
                   हर प्रीतम को सदा सुनाया ।
                  फिर छोड़ रही क्यों  मुझको ;
                       मै कैसे रह पाउँगा ?

 है प्रेम रौशनी सा उजज्वल ;
        इस दर्पण को तोड़ न देना तुम  ...
                मैं तुमको छोरूँगा कभी न ...
                   कभी हँस के छोड़  न देना तुम । 
                         जीवन रस से श्रृंगार किया है ;
                             होगा तो मिट जाऊँगा ॥
                                                                          ---- श्री राम रॉय     

3 comments:

Satish Saxena said...

मेरी कविता रूठ गयी
अब कैसे उसे मनाऊंगा
गीत हुई न ग़ज़ल हुई
अब कैसे उसको गाऊंगा


भाव खूबसूरत हैं , शुभकामनायें आपकी कलम को !

Sriram said...

Thanks bhai Satish ji

Unknown said...

jaise bhi ho use manaiye,
usi ke hi ho jaiye.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...