Sunday, 21 July 2013

गुरुपूर्णिमा आज है


        गुरु शिष्य शरण तुम्हारे हैं …… । ।
 कोई सहारा है नही अब ;  बस जीते तेरे सहारे हैं  ।
        गुरु शिष्य शरण तुम्हारे हैं …… । ।
तेरे बिना इस जीवन को ;आंसू  बहाकर   गुजारे हैं ।
          गुरु शिष्य शरण तुम्हारे हैं …… । ।
कष्ट बहुत झेले जग  में ;अब केवल तुम्हे पुकारे हैं ।
        गुरु शिष्य शरण तुम्हारे हैं …… । ।
"श्रीराम "चरणों का दास ;गुरु की मूरत   निहारे   हैं ।
        गुरु शिष्य शरण तुम्हारे हैं …… । ।
( visit gurudham www.parampuri.hpage.com  )
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...