Sunday, 1 December 2013

***** उल्लंघन********

आज --
शहर बंद है  ...
 हर चौराहे पर,
 नारा बुलंद है......
 किसी की"   हाय -हाय",
 किसी की  """"" मुर्दाबाद....""
 किसी को "  चोर है ",
 कोई "  कलंक "  है....
 "  राजा   नही रंक है "....
 कहीं पुलिस धाँधली .....
कहीं गोली चली ;;;;
कहीं  डंडा चला .......
फिर लगे सिलसिला .......
आँसू गैस;
 हुए प्रभाबहीन -----
 कुर्सी के दलाल तीन ...;
चौथा विद्रोही.....
 गलत था जिसे ,
प्रशासन ने ....
गोली मरवा दिया........  
फिर , गोली के सुराख में ;
सरकारी पाऊडर भरवा दिया ......
और ऎलान हुआ.......
"धारा १४४ का ......
उल्लंघन

किया था ....;
मंत्री के जलूस को .....
 रोक दिया था  "…………(क्यों......? ) 
    -----------श्रीराम रॉय 

Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...