Sunday, 27 July 2014

दर्द प्यार में पाये *****

प्यार तुम्हारा भुला सकूँ न ,याद तेरी गजल बन जाए 
सुनी कोठरिया में बैठ कर ,आहें भर भर कर के गाये 

बड़े मौज से गुजरे थे संग प्रिये तेरे दिन -रातें 
रात -रात नींद नही आती सताती प्यार भरी तेरी बातें 
आँखोँ में उजाले रहे नही ,प्रिये काले-काले बादल छाए
                ------------------याद तेरी गजल बन जाए 

हाँ तुमने मुझको दिया था ,नगर प्यार की सुन्दर मंजिल 
तुमको दो पल जब देखा ,पास नही रह पाया यह दिल 
बंद नहीं होती अब पलकें ,खुली की खुली ये रह जाए 
          -  -------------------याद तेरी गजल बन जाए 

तेरे होठो की गुनगुनाहट ,दिल तड़प कर ढूंढ रहा 
करने श्रृंगार तेरा साजन ,अब आइना भी तड़प रहा 
दिल दे कर अपना तुमको ,बस दर्द प्यार में पाये 
           ---------------याद तेरी गजल बन जाए 
    *******Sriram Roy*******
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...