Saturday, 9 August 2014

बीज था प्यार का____

हम कहते थे / वो हैं /से ; वो /हो गये । 
मिले भीड़ में हमसे ;तन्हाई में खो गये ॥ 

दिल लगता नहीं /है कहीं /ढूंढे कहाँ उनको 
आये ना वापस लौटकर ;जो गए /सो /गये ॥ 

उजाला चीखते रहता ;अँधेरा बहुत जलाता है 
हँसते जो साथ-साथ ; याद आते ही रो गये ॥ 

अरमान सारे दफ़न हुए ;जिंदगी मौत बन गयी 
बीज था प्यार का ;पर काँटे ही वो गये ॥ 

हम कहते थे / वो हैं /से ; वो /हो गये । 
मिले भीड़ में हमसे ;तन्हाई में खो गये ॥

                                                
















----------Sriram Roy.
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...