Thursday, 5 February 2015

कागज़ कलम -कलम !!


कलम होता रहे कलम ही अगर ।

खून से भींग जाएगा सारा शहर।।

इस दिल को ही कागज़ कहिये
 जिसपे चलते रहे हैं सदा खंजर ।।
जवानी गजल है मदहोश प्यार का 
कागज है कुवारी कलम हमसफ़र ।।
इश्क छीनो नहीं किसी महबूब का 
कर लेने दो उसको सुहाना सफ़र।।
गजल की अगर कोई उड़ाए हँसी 
टुकड़ा टुकड़ा हो जाएगा मेरा जिगर।।
                             ssss--श्रीराम 
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...