Friday, 15 May 2015

अकेलापन


छाई मस्ती 
  हुई दोस्ती। 

तोड़े बाँटे 
  छोटे काँटे। 

रोती रात 
   ख़त्म बात। 

हुई भूल 
    दिया फूल। 

 एक किताब 
      एक गुलाब।   
      ***
 Sriram Roy 
      *** 
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...