Wednesday, 20 May 2015

!!जीवन सार!!

बस कर
मत डर। 

पहर दोपहर
मिले जहर।

बुलंद हौसले
पत्थर मसले। 
चल बेखबर
लम्बी उमर।
दुनिया निराली
सुख की प्याली।

जीभर जीना
कभी न रोना। 

जीवन सार
जीत हार।

--श्रीराम
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...