Showing posts with label कबिता तुम्हारे यादों जैसी. Show all posts
Showing posts with label कबिता तुम्हारे यादों जैसी. Show all posts

Saturday, 21 March 2015

तुम्हारे यादों जैसी.....


मेरी
डायरी के
पन्नों बीच
बरसों पड़े
गुलाब की
पंखुड़ियाँ
ज्यों की त्यों हैं
तुम्हारे यादों जैसी।
 उसका रंग भी
 वही गुलाबी है
जिसतरह
चिकने तुम्हारे
होंठ थे
तुम्हारी
झील सी
आँखों के आगे
चैत की
मस्त बयार में
किये वादों जैसी।
परन्तु
इसकी खुशबू
किसी
 पतंगे के
 इन्तजार में
पुरानी पड़ गयी है ।।।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...