Showing posts with label रात से दिन. Show all posts
Showing posts with label रात से दिन. Show all posts

Monday, 16 September 2013

रात से दिन ……


(मित्रों प्रस्तुत है मेरी रस -भरी नायाब रचना ;समझने की कृपा करेंगे……. )
रूप -रंग का वर्णन तेरा ,
कैसे करूं समझा देना । 
अभी तेरी तस्वीर बनायी ,
रात गगन में आजाना ॥ 
शाम ढलेगी जब रात में ,
सारे दीये बुझा दूंगा  । 
देख ना ले कोई तुमको ,
तारों से नजर चुरा आना ॥ 
तस्वीर तेरी कागज़ पे होगी ,
आएगी अंगड़ाई फिर ।
 सपनो में गर खो जाऊं ,
खिड़की से बुला लेना ॥ 
गर खिड़की बंद रहेगी ,
दरवाजा भी बंद रहेगा ।
 आहट तुम जो दे न सको ,
झोंका हवा का भिजवा देना ॥ 
आ तुम्हे घूँघट डाल दूँ ,
आसमान के लाली की । 
अब दुनिया सोने न देगी ,
तुम  जा कर के सो जाना ॥ 
-------श्री राम रॉय 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...